September 29, 2022

ExpressNews24x7

Leading News Channel Expressnews24x7

एक माह में दूसरी बार उत्तराखंड के दौरे पर मोदी, कांग्रेस के माथे पर बल;

Spread the love

उत्तराखंड में 2022 के विधानसभा चुनाव में भी कांग्रेस के सामने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी चुनौती के रूप में आ डटे हैं। देहरादून में चुनावी बिगुल फूंकने के महीनेभर से कम समय में ही हल्द्वानी में मोदी की रैली के बाद अब कांग्रेस पर पलटवार का दबाव है।

कांग्रेस के माथे पर फिर बल पड़े हैं। उत्तराखंड में 2022 के विधानसभा चुनाव में भी कांग्रेस के सामने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी चुनौती के रूप में आ डटे हैं। देहरादून में चुनावी बिगुल फूंकने के महीनेभर से कम समय में ही हल्द्वानी में मोदी की रैली के बाद अब कांग्रेस पर भी पलटवार का दबाव है। मोदी से मुकाबले के लिए अगले माह जनवरी में कुमाऊं मंडल में राहुल की रैली कराई जा सकती है।

उत्तराखंड में लगातार दूसरी बार सत्ता के लिए जोर मार रही भाजपा और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सीधे निशाने पर कांग्रेस ही है। चालू महीने में पहले देहरादून तो अब हल्द्वानी रैली के माध्यम से मोदी गढ़वाल और कुमाऊं मंडल में चुनावी शंखनाद कर चुके हैं। मोदी की बीती चार दिसंबर को देहरादून रैली के जवाब में कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने 16 दिसंबर को रैली की। कांग्रेस की बड़ी परेशानी मोदी की टक्कर का नेता नहीं होना है। यह कमान राहुल गांधी ही संभाले हुए हैं। अब कुमाऊं मंडल में मोदी से मुकाबले को राहुल को मैदान में उतारा जाएगा।पार्टी की ङ्क्षचता मोदी के आक्रामक तेवर हैं। उत्तराखंड में आजादी के बाद से ही विकास की गतिविधियां ठप रहने के मुद्दे पर उन्होंने बगैर नाम लिए कांग्रेस पर तीखा हमला बोला। 2017 के विधानसभा चुनाव में मोदी लहर का कहर कांग्रेस देख चुकी है। इसकी वजह से जहां भाजपा को प्रचंड बहुमत मिला तो कांग्रेस महज 11 सीटों पर सिमट गई थी। यही वजह है कि कांग्रेस विधानसभा के चुनावी युद्ध को मोदी बनाम कांग्रेस नहीं बनाना चाहती। पार्टी इस तरह के ध्रुवीकरण को रोकने की पूरी जुगत भिड़ा रही है।

About Post Author


Spread the love