October 6, 2022

ExpressNews24x7

Leading News Channel Expressnews24x7

स्वर्णिम विजय दिवस : 1971 के भारत-पाक युद्ध में उत्तराखंडियों ने मनवाया था लोहा

Spread the love

1971 के भारत-पाक युद्ध में उत्‍तराखंड के रणबांकुरों ने अपना शौर्य दिखाया था। उनका बलिदान को नहीं भुलाया जा सकता है। इस युद्ध में उत्‍तराखंड के 255 सैनिक ने बलिदान दिया था। वहीं 78 सैनिक घायल हुए थे। इस सैनिकों का लोहा पूरी दुनिया मानती है।

उत्तराखंड को वीर भूमि यूं ही नहीं कहा गया। राज्य के वीर योद्धाओं ने समय-समय पर अपनी बहादुरी का लोहा मनवाया है। 1971 के भारत-पाक युद्ध की बात करें तो भारतीय सेना की इस विजयगाथा में उत्तराखंड के रणबांकुरों के बलिदान को भुलाया नहीं जा सकता। इस युद्ध में उत्तराखंड के 255 सैनिकों ने बलिदान दिया था। रण में दुश्मन से मोर्चा लेते हुए उत्तराखंड के 78 सैनिक घायल हुए। इन रणबांकुरों के अदम्य साहस का लोहा पूरी दुनिया ने माना।

शौर्य और साहस की यह गाथा आज भी भावी पीढ़ी में जोश भरती है। इतिहास गवाह है कि वर्ष 1971 में हुए युद्ध में दुश्मन सेना को नाको चने चबवाने में उत्तराखंड के जवान पीछे नहीं रहे। तत्कालीन सेनाध्यक्ष सैम मानेकशा (बाद में फील्ड मार्शल) और बांग्लादेश में पूर्वी कमान का नेतृत्व करने वाले सैन्य कमांडर ले. जनरल जगजीत सिंह अरोड़ा ने भी प्रदेश के वीर जवानों के साहस को सलाम किया।

About Post Author


Spread the love