September 25, 2022

ExpressNews24x7

Leading News Channel Expressnews24x7

Nikhat Zareen कैसे बनी विश्व चैंपियन, हेड कोच भास्कर पांडे ने बताई पूरी कहानी

Spread the love

विश्व बाक्सिंग चैंपियनशीप में गोल्ड मेडल मेडल जीतने के बाद बाक्सिंग खिलाड़ी निकहत जरीन देश-दुनिया में छा चुकी है। मगर बहुत कम लोग जानते ही हैं उसकी सफलता के पीछे एक नाम भास्कर चंद्र पांडे का भी है। हिकहत के कोच रहकर भाष्कर ने छह माह में उसे शारीरिक रूप से फिट किया। टोक्यो ओलम्पिक में सेलेक्शन न होने पर जब निकहत का मनोबल टूट गया था। तब उसे आगे बढऩे का साहस देने वालों में भी भाष्कर भी शामिल रहे।मूलरूप से ग्राम नकरोड़ा, तहसील डीडीहाट, पिथौरागढ़ निवासी भास्कर पांडे राष्ट्रीय प्राधिकरण शिविर के हेड कोच हैं। रविवार को दैनिक जागरण संवाददाता से हुई बातचीत में उन्होंने बताया कि निकहत जरीन के बेसिक कोच तेलंगाना के है, लेकिन दिसंबर 2021 से वही उसके हेड कोच हैं और पूरी टीम के साथ मिलकर निकहत के खेल में सुधार ला रहे हैं। निकहत 10 साल से उनकी टीम का हिस्सा है और लगातार संघर्ष करती है।भास्कर ने बताया कि टेक्निकल रूप से वह मजबूत खिलाड़ी है। सात माह में उन्होंने निकहत के शारीरिक मजबूती पर विशेष फोकस किया। इसका उद्देश्य यह था कि वह अंत तक रिंग में न थके। फिजिकल रूप से फिट होने पर वह मानसिक रूप से भी मजबूत हो गई। उन्होंने बताया निकहत जरीन ने जीत का जो तोहफा दिया वह स्पोटर्स साइंस सेंटर की पूरी टीम की मेहनत का परिणाम है। 12 टीम कोच खिलाडिय़ों को बाक्सिंग खेल के हुनर सिखा रहे हैं। कैंप में देशभर की 48 खिलाड़ी बाक्सिंग के गुर सिख रहे हैं।भास्कर चंद्र पांडे बताते हैं कि निकहत होनहार खिलाड़ी है। टोक्यो ओलंपिक के लिए उसने अच्छी तैयारी की। मगर ट्रायल में वह हार गईं थी। इसलिए उसका सेलेक्शन नहीं हो सका। निहकत को लगा था कि उसके साथ अन्याय हुआ है। मैंने उससे कहा धैर्य रख तू आगे तक जाएगी। इसके बाद उसने शानदार वापसी की और थाइलैंड की जिटपान्ग जुटामस को 5-0 से करारी शिकस्त देकर गोल्ड जीता।

About Post Author


Spread the love