October 6, 2022

ExpressNews24x7

Leading News Channel Expressnews24x7

पिथौरागढ़ जिले में जमकर बरसे मेघ तो मैदानी जिलों में बारिश को तरसे,

Spread the love

उत्तराखंड में पर्वतीय जिलों में जमकर बारिश हई है। जबकि, मदानी जिलों में बरसात का औसम कम है। अप्रैल-मई महीने में बरसात से पर्वतीय जिलों में जमकर बारिश से लोगों को गर्मी से राहत मिली है।मार्च और अप्रैल में बारिश न होने से उत्तराखंड में सूखे जैसे हालात बन गए थे। लेकिन मई माह की शुरुआत से बदरा जमकर बरस रहे हैं। मौसम विशेषज्ञ 20 मई के बाद प्री-मानसून आने की संभावना जता रहे हैं। इससे पहले ही प्रदेश में सामान्य से 54 फीसदी ज्यादा बारिश हो चुकी है।

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के अनुसार 16 मई तक यहां 35.1 मिलीमीटर वर्षा सामान्य मानी जाती है। जबकि इस साल अब तक 54 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड हो चुकी है।प्रदेश के 13 जिलों में से 6 पहाड़ी जिलों में सामान्य से काफी ज्यादा बारिश हुई है। पिथौरागढ़ जिले में सामान्य से 227 फीसदी अधिक बारिश हुई है, जो राज्य में सबसे ज्यादा है।

दूसरे नंबर पर बागेश्वर जिला है, यहां 112 फीसदी ज्यादा वर्षा हुई है। कुल मिलाकर कर देखें तो कुमाऊं मंडल में मौसम सबसे ज्यादा मेहरबान रहा है। वहीं हरिद्वार, देहरादून, नैनीताल जिलों में सामान्य से सबसे कम बारिश हुई है। हरिद्वार में 63 फीसदी कम वर्षा रिकॉर्ड हुई है। मई माह में हुई बारिश ने प्रचंड गर्मी से राहत मिली है, लेकिन चटक धूप खिलने की उमस में भी इजाफा हो रहा है।

About Post Author


Spread the love