October 6, 2022

ExpressNews24x7

Leading News Channel Expressnews24x7

देहरादून: साढ़े छह किमी की माडल रोड के फुटपाथ पर 600 अतिक्रमण, आठ करोड़ रुपये खर्च कर यहां बनाए गए फुटपाथ

Spread the love

 फुटपाथ पर पैदल चलने वालों का अधिकार है, जबकि कई लोग फुटपाथ पर अतिक्रमण कर फेरी, फड़-ठेली लगा लेते हैं या बगीचे का विस्तार या सुरक्षा गार्ड का केबिन बना देते हैं। ये सार्वजनिक स्थान का अतिक्रमण हैं। फेरीवालों को मनमर्जी की इजाजत नहीं दी जा सकती है। फेरीवालों को हाकिंग नीति के अनुसार ही फेरी लगाने की अनुमति दी जा सकती है। वह घूम-घूमकर ही सामान बेच सकते हैं। जहां कहीं फुटपाथ पर अतिक्रमण पाया जाता है, वहां संबंधित व्यक्ति के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए और फुटपाथ से अतिक्रमण हटाया जाना चाहिए।अगर कोई मकान या दुकान मालिक अतिक्रमण हटाने के बाद फिर से फुटपाथ पर कब्जा कर लेता है तो उनके आवास-दुकान पर पानी, बिजली व सीवेज जैसी सेवाओं को बंद करने के लिए नियम बनाए जाने चाहिए। फुटपाथ पर होने वाले अतिक्रमण पर सुप्रीम कोर्ट ने हाल ही में यह टिप्पणी की थी। इसी परिपेक्ष्य में दून शहर में जागरण ने फुटपाथ की पड़ताल की तो यह सच सामने आया।

पांच साल पहले 2017 में प्रदेश में जब भाजपा सरकार बनी तब तत्कालीन शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने देहरादून में माडल रोड का जो ख्वाब शहरवासियों को दिखाया था, वह 2022 में भाजपा के फिर सत्ता में आने के बाद भी अधूरा है। घंटाघर से आइएसबीटी तक करीब साढ़े छह किमी लंबी सड़क को माडल रोड बनाने का दावा किया था। माडल रोड तो यह कभी बन ही नहीं सकी, लेकिन जो कोशिश की गई, वह भी कामयाब नहीं हुई।लगभग आठ करोड़ रुपये खर्च कर यहां बनाए गए फुटपाथ पर अतिक्रमण हो चुका है, जबकि नाली बनाने का काम अब तक अधूरा है। जहां पर पांच साल पूर्व अतिक्रमण हटाया गया था, वहां दोबारा अवैध कब्जे हो चुके हैं।आइएसबीटी से घंटाघर तक माडल रोड की नाली और फुटपाथ पर जहां भी काम हुआ है, वहां अतिक्रमणकारियों ने कब्जा कर लिया है। साढ़े छह किमी क्षेत्र में छोटे बड़े 600 अतिक्रमण हो गए हैं। माडल रोड के फुटपाथ और नाली से बाहर सड़क तक अतिक्रमण किया हुआ है। शिमला बाइपास से लालपुल, पटेलनगर से सहारनपुर चौक, गांधी रोड से घंटाघर तक यही स्थिति है। आढ़त बाजार के बाटलनेक पर तो प्रशासन ने पहले ही कदम पीछे खींचे हुए हैं, लिहाजा यहां फुटपाथ तो दूर सड़क तक अतिक्रमण पसरा हुआ है।पूर्व शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने घंटाघर-आइएसबीटी रोड को अतिक्रमण से मुक्त कर माडल रोड बनाने का बीड़ा उठाया था। यह उनका ड्रीम प्रोजेक्ट था व कौशिक ने खुद पैदल और ई-रिक्शा में सवार होकर सड़क के वास्तविक हालात देखे थे। उनके आदेश के बाद जून-2017 में इस मार्ग पर जेसीबी गरजी। दर्शनलाल चौक, इनामुल्ला बिल्डिंग, माजरा, निरंजनपुर आदि इलाके में बड़े अतिक्रमण ध्वस्त भी किए गए, लेकिन बाकी जगह सरकारी मशीनरी के कदम रुक गए। बहरहाल जहां अतिक्रमण ध्वस्त हुआ था, वहां नाली, फुटपाथ व रेलिंग के कार्य शुरू किए गए। एक साल में यह काम पूरा होना था, लेकिन जिम्मेदार अधिकारियों की अनदेखी कहें या विभागों की मनमानी, कि यह काम पांच साल बाद भी अधूरा है।

About Post Author


Spread the love