September 29, 2022

ExpressNews24x7

Leading News Channel Expressnews24x7

जिसकी चलती है उसकी क्या गलती है दीपक बिजल्वाण कि इसीलिए जांच अटकी है

Spread the love

दीपक बिजल्वाण वो शक्स है जो आज कल उत्तरकाशी की सियासत के लिए एक काला साया बना हुआ है । ऐसा हम नहीं कह रहे ये शब्द है काँग्रेस के कार्यकर्ताओ के जिनके जिम्मे प्रदेश मे काँग्रेस को जीत दिलाना है। काँग्रेस  कार्यकर्ताओ द्वारा आरोप लगे है की पहले से ही  काँग्रेस कई भ्र्ष्टाचार के आरोपो का सामना कर रही  है। ऐसे मे  दीपक का काँग्रेस के टिकेट पर चुनाव लड़ना काँग्रेस की हार के साथ साथ प्रदेश भर मे काँग्रेस की नीतियो पर सवालिया निशान है।  

दीपक बिजल्वाण के संबंध में शिकायतें शासन तक भी पहुंची। आरोप है कि बिना कार्य कराए ही कार्यदायी संस्था व ठेकेदारों को भुगतान कर दिया गया। साथ ही निविदा आवंटन में भी पारदर्शिता का कहीं कोई ध्यान नहीं रखा गया। इन शिकायतों पर शासन ने पहले उत्तरकाशी के जिलाधिकारी और फिर मंडलायुक्त से जांच कराई।

 जांच में प्रथम दृष्ट्या आरोप सही पाए गए। इसके लिए उत्तरकाशी जिला पंचायत के तत्कालीन प्रभारी अपर मुख्य अधिकारी अभियंता संजय कुमार और जिला पंचायत अध्यक्ष दीपक बिजल्वाण को जिम्मेदार ठहराया गया।

इसके बाद शासन ने बिजल्वाण को पिछले वर्ष अक्टूबर में कारण बताओ नोटिस जारी किया। उनके जवाब को संतोषजनक नहीं पाया गया। ऐसे में तब से बिजल्वाण को हटाने और प्रभारी अपर मुख्य अधिकारी कुमार के विरुद्ध कार्रवाई तय मानी जा रही थी। शुक्रवार को सचिव पंचायतीराज नितेश झा की ओर से इस संबंध में आदेश जारी कर दिए गए। आदेश के मुताबिक बिजल्वाण अपने पदीय कर्तव्य व दायित्व को ठीक से नहीं निभा पाए।

आदेश के मुताबिक इस प्रकरण की विशेष जांच दल (एसआइटी) से जांच कराने का निर्णय लिया गया है। इसे देखते हुए बिजल्वाण जांच को प्रभावित न कर सकें,जिसके चलते उनको  पदीय दायित्व से हटाया गया था।

 इसी तरह के अवैध तरीके से सरकारी खजाने को खाली करने के लिए इनपर कई आरोप लगे है।

            कोरोना काल मे भी दीपक बिजल्वाण ने पैसे की धांधली करने के नए नायाब तरीके निकाले जैसे की सफाई कर्मचारीयो को दैनिक रूप मे सफाई के काम मे रखना परंतु मौके पर किसी भी कर्मचारी का न होना जिससे पता चलता है की उक्त व्यक्ति कितनी निम्न तबके की राजनीति करता रहा है जिसका पता इसी बात से चलता है की उच्च न्यायालय द्वारा स्वयं इस मुद्दे को सज्ञान मे लेना पड़ा था।

            फिलहाल जब तक आरोप सिद्ध नहीं होते तब तक दीपक को जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर बने रहने और  गिरफ्तार न करने का आदेश कोर्ट दे चुका है परंतु दीपक द्वारा क्षेत्र मे ये अफ़्फ़्वहा उड़ा दी गई है की उनको उनका मान सम्मान लौटते  हुये और लगे सारे आरोपो को बर्खास्त करते हुये कोर्ट ने उनको  मुक्त कर दिया है जिस कारण क्षेत्र मे गलत काम करने वाले अन्य के हौसले और बुलंद होते दिख रहे है।

            हास्यप्रद बात तो ये है की भ्र्ष्टाचारके आरोपो से लिप्त दीपक बिजल्वाण जिला अधिकारी और कई अधिकारियों पर आरोप लगा रहा है की उस को फसाया जा रहा है, पर बंधु फसना और फसाना  का खेल का अंत तो सबूत तय करते है जो की अभीतक आप के खिलाफ जाते ही दिख रहे है ऐसे मे जब तक जांच चल रही है तब तक आप को आरोप लगाने से ज़्यादा ध्यान अपने आप को आरोप मुक्त करने पर देना चाहिए  फिर चाहे आज पूर्व मुख्य मंत्री हरीश रावत जी आप के साथ हो और आप को पैदाइशी कांग्रेसी की उपाधि दे डाली हो पर कानून जब जागेगा तो दूध का दूध और पानी का पानी कर देगा जिसके लिए अभी देर है पर एक दिन न्याय जरूर होगा जिसकी आस जनता को सदैव रहती है ।

            ऐसे मे  प्र्शन ये है की यदि कोई आम इस तरह के कृत करता और उसपर आरोप सीध हो जाते तो क्या न्याय पालिका उस पर भी अपनी दर्यादिली दिखा सकती है ये आम जनता का वो सवाल है जिसका जवाब किसी के पास नहीं है वैसे तो जिसकी चलती है उसकी क्या गलती है  वाली कहावत सत्य सिद्ध होती दिख रही है  और ऐसे मे  पूर्व मुख्य मंत्री हरीश रावत को भी एक बार सत्ता के नशे से बाहर आ कर प्रदेश और क्षेत्र की जनता को ईमानदार नेता देने की बात हो रही है जिसकी बात आप अपने भाषण मे करते नहीं थकते ।

 आज जनता ये भी सवाल उठा रही है की यदि चुनाव जीतने के बाद दीपक बिजल्वाण आरोपी सिद्ध होता है तो चुनाव मे खर्च हुआ जनता का पैसा बर्बाद नहीं होगा क्या? या ये पैसा आरोपी से वसूला जाएगा?

            दीपक बिजल्वाण जो छोटे पद की गरिमा नहीं संभाल सका वो बड़े बड़े पदो पर रह कर अपने कुकृत से जांच को प्रभावित तो करेगा ही साथ साथ जनता को उनके हक़ की योजनाओ की भी दलाली करेगा ऐसे मे जनता के साथ साथ खुद पार्टी के कार्यकर्ताओ का चुनाव आयोग से निवेदन है की तत्काल प्रभाव से दीपक बिजल्वाण पर चुनाव लड़ने पर रोक लगानी चाहिए जिससे प्रदेश मे भ्र्ष्टाचार पर रोक लग सके और स्वच्छ वातावरण मे चुनाव हो सके जो की प्रदेश को विकास के पथ पर ले जा सके मात्र घोषणाओ से विकास नहीं हो सकता जनता जाग चुकी है और भाप चुकी है की क्या चल रहा है किसका साथ देना है उसका फैसला 14 फ़रबरी को हो जाएगा।

E-COURTS
HIGH COURTS OF INDIA

High Court of Uttarakhand

Top of Form

Back

High Court of Uttarakhand

Case Details

Case Type: WPMS
Filing Number: 266/2022Filing Date: 11-01-2022
Registration Number: 97/2022Registration Date: 11-01-2022
CNR Number: UKHC01-000489-2022

Case Status

First Hearing Date: 
Next Hearing Date: Next Date is not given
Stage of Case: ORDERS ON APPLICATIONS -22
Coram: 1119Hon’ble Mr. Justice Sanjaya Kumar MishraBench: Division BenchState: UTTARAKHANDDistrict: UttarkashiJudicial: ALL SECTIONS (CIVIL AND CRIMINAL)Causelist Name: DAILY CAUSE LIST

Petitioner and Advocate

1) DEEPAK BIJALWAN

    Advocate- VIKAS BAHUGUNA


Respondent and Advocate

1) STATE OF UTTARAKHAND

    Advocate – C.S.C., ABHIJAY NEGI (FOR CAVEATOR ),PRADEEP UPRETI
2) SECRETARY PANCHAYATI RAJ CIVIL SECRETARIAT RAJPUR ROAD DEHRADUN
    
    Advocate-C.S.C.
3) DIRECTOR PANCHAYATI RAJ NEAR IT PARK SAHASTRADHARA ROAD DEHRADUN
    
    Advocate-C.S.C.
4) COMMISSIONER PAURI DISTT PAURI GARHWAL
    
    Advocate-C.S.C.
5) DISTRICT MAGISTRATE UTTARKASHI DISRTT UTTARKASHI
    
    Advocate-C.S.C.


Acts

Under Act(s)Under Section(s)
OTHER226

IA Details

IA NumberPartyDate of FilingNext DateIA Status
IA/1/2022
Classification : STAY APPLICATION
DEEPAK BIJALWAN11-01-202227-01-2022Disposed
IA/2/2022
Classification : EXEMPTION APPLICATION
DEEPAK BIJALWAN25-01-2022Pending
IA/3/2022
Classification : MISCELLANEOUS APPLICATION
DEEPAK BIJALWAN25-01-2022Pending
History of Case Hearing
Cause List TypeJudgeBusiness On DateHearing DatePurpose of hearing
DAILY CAUSE LISTRegistrar (Judicial)12-01-2022FRESH CASES AS DEFECTIVE -236
DAILY CAUSE LISTRegistrar (Judicial)12-01-2022FRESH CASES FOR ADMISSION -3
DAILY CAUSE LISTHon’ble Mr. Justice Sanjaya Kumar Mishra13-01-2022FRESH CASES FOR ADMISSION -3
DAILY CAUSE LISTHon’ble Mr. Justice Sanjaya Kumar Mishra27-01-2022ORDERS ON APPLICATIONS -22
  Orders
  Order Number  Judge  Order Date  Order Details
  1  Hon’ble Mr. Justice Sanjaya Kumar Mishra  13-01-2022  View
  2  Hon’ble Mr. Justice Sanjaya Kumar Mishra  27-01-2022  View
  3  Hon’ble Mr. Justice Sanjaya Kumar Mishra  27-01-2022  View
  Category Details
CategoryMISC WRIT PETITION ( 2 )
Sub CategoryWRIT PETITION CIVIL ( 1 )
Sub Sub CategoryUNDER ARTICLE 226 ( 1 )
Sub Sub Sub CategoryMISC MATTERS ( 47 )
  OBJECTION
Sr.No.Scrutiny DateOBJECTIONCompliance DateReceipt Date
111-01-2022All Objections are Complied

Back

About Post Author


Spread the love