October 6, 2022

ExpressNews24x7

Leading News Channel Expressnews24x7

शराब कारोबारी पर भारी पड़ रही पुलिस की नजरंदाजी

Spread the love

पुलिस का नाम सुनते ही हर कोई चौकना हो जाता है शायद आप भी कई बार पुलिस को रास्ते मे देखपर अपनी जेब टटोल कर अपना डीएल आरसी आदि चेक कर लेते होंगे पर आज पुलिस की नई नई योग्यताए आए दिन सामने आती है इनही एक योग्यताओ मे से हम आप को एक बताते है

            बात है पौड़ी जिले के एक शहर ऋषिकेश के थाना अंतर्गत क्षेत्र लक्ष्मण झूला की  जहा स्तापानी, गरुडचट्टी एक विदेशी  मदिरा की दुकान है  जिसका संचालन  कारोबारी अनुज्ञापि संख्या FL5D- स्तापानी  से  करते है। जिनका राजस्व लगभग  70,00,000 रुपय प्रतिमाह के हिसाब से 8,40,00,000 रुपय (आठ करोड़ चालीस लाख ) वार्षिक का है। चुकी राजस्व राशि बड़ी है तो इस पर कई लोगो की भी नज़र होगी जो सेंध मार कर कारोबार का कुछ हिस्सा हड़प सके  इस तरह इस क्षेत्र मे एक शराब माफिया अनिल नेगी व उनके सहयोगीयो ने अवैध शराब की तस्करी कर के, बेची जा रही है  जिससे  की कारोबारी के शराब  कारोबार को काफी क्षति पहुचती है जिससे न इनका बल्कि राजस्व विभाग का भी काफी बड़ा नुकसान हो रहा है। प्राप्त जानकारी के तहत अनिल नेगी  का अवैध शराब का कारोबार 8 किलोमीटर के दायरे मे चल रहा है जहा खुले आम शराब की अवैध खेप को खपाया जा रहा है  इसकी जानकारी कारोबारी को नए साल के दौरान हुई जहां शराब की खपत काफी  बढ़ती है वही इसबार शराब  की खपत अपने नियमित  रूप से ही दिखाई दी वही कई जगह इनको अवैध शराब बेचे जाने की बात भी पता चली जिसका इनके क्षेत्र मे बेचे जाना इनके लिए काफी नुकसानदायक रहा । अपने स्तरपर तहकीकात करने पर पता चला की पूर्व मे भी इसके खिलाफ कई बार इसी प्रकार की शिकायते  पुलिस प्रशासन को  दी गई है। जिसके स्वरूप आज तक उक्त के खिलाफ  कोई भी कार्यवाही नहीं हुई है और उक्त अपने अवैध कारोबार के द्वारा कारोबारी तथा राजस्व विभाग को क्षति पाहुचने का निरंतर कार्य कर रहा है और इस पर पुलिस प्रशासन का कोई खौफ भी नज़र नहीं आ रहा है तथा पुलिस  उक्त के प्रति किसी भी प्रकार की कार्यवाही करने मे असमर्थ रही है

अब बात करे तो अचंभा होता है की हर थाना क्षेत्र को कई बिट अधिकरी  देखते है और निरंतर गश्तकर के  अपने   क्षेत्र को  अपराध मुक्त करने की कोशिश करते है यहा पर सवाल उठता हैआखिर क्या वजह है जो पुलिस की बीट अधिकारी  को इतने बड़े अपराध की कोई सुध नहीं है या इसपर कार्यवाही करना अपना उत्तर दायत्व  नहीं समझते आखिर ऐसा कब तक  चलेगा इस की प्रतीक्षा मे इन जैसे कई अन्य कारोबारी भी  है जो इस प्रकार की समस्या से कही ना कही झूझ रहे होंगे।

About Post Author


Spread the love