हरिद्वार स्वास्थ्य विभाग की लगातार कार्यवाहि के चलते मेडिकल संचालको में भगदड़।
पिछले कई दिनों से स्वास्थ्य विभाग की लगातार कार्यवाही ने ऐसे लोगो को घर लौटने पर मजबूर कर दिया है जो अपनी अधूरे कागजी/ दस्तावेजो पर मेडिकल खोले बैठे है,ओर लोगो की जान से खिलवाड़ कर रहे है।

हरिद्वार सिडकुल क्षेत्र के नजदीक कुछ ऐसे ग्रामीण क्षेत्र भी है जहां ऐसे लोगो की भरमार है। जिनके पास न तो मेडिकल डिप्लोमे है और न ही कोई डिग्री बावजूद उसके ये लोग कहीं मेडिकल चला रहे है तो कहीं क्लिनिक खोले बैठे है। इन लोगो के पास मेडिकल स्टोरों पर आसानी से ऐसी दवाये भी उपलब्ध हो रही है। जिन पर सरकार की ओर प्रतिबन्ध है।सिडकुल थाना क्षेत्र के अंतर्गत रामधाम कॉलोनी ओर ब्रह्मपुरी गांव में चर्चित तेज तरार अनुभवी ड्रग इंस्पेक्टर अनीता भारती और डॉ सुधीर कुमार ड्रग इंस्पेक्टर उधम सिंह नगर द्वारा मेडिकल स्टोरो का औचक निरीक्षण किया।

मिली जानकारी के द्वारा यह भी ज्ञात हो पाया है कि क्षेत्र में नकली दवाओं की भी बिक्री भी चल रही है। जिससे यह स्पष्ट हो जाता है। कि ऐसे अवैध मेडिकलो पर दवाये उन्ही जगहों से आ रही है। जो नकली दवाओं का कारोबार कर रहे है ,इसी बात को ध्यान में रखते हुए, संबंधित मेडिकल स्टोर से तीन दवा के नमूनों परिक्षण हेतू लिये गये, विभाग कि टीम द्वारा दवाई जांच हेतु लैब में भेजे गए।

औषधि निरीक्षक अनिता भारती ने बताया कि सभी दवा एजेंसियो को निर्देश दिए गए है कि किसी भी गैर लाइसेंसी धारक को दवाओं की बिक्री न की जाए। जबकि क्षेत्र में चल रहे बहुत से मेडिकल ऐसे भी है। जिनके पास किसी प्रकार का कोई लाइसेंस नही। बावजूद उसके वह दवाओं की बिक्री कर रहे है। अब सवाल यह है कि इस प्रकार के मेडिकल आखिर दवाये ला कहा से रहे है। जोकि एक गंभीर और जांच का विषय है।

ड्रग इंस्पेक्टर ने बताया की रामधाम कॉलोनी ओर ब्रह्मपुरी का निरीक्षण किया गया है जहां अभी कुछ अनियमितताएं पाई गई है। जिसके चलते मेडिकल स्टोर संचालक मेडिकल छोड़ ताला लगा कर भाग गए है। परतुं जो मिले उन्हें चेतावनी दी गई है कि अपने समस्त लाइसेंस और दस्तावेज लेकर मेरे समक्ष प्रस्तुत हो।

बताया जा रहा है कि माननीय हाई कोर्ट और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक हरिद्वार के निर्देशानुसार ड्रग इंस्पेक्टर के नेतृत्व में जिले में मेडिकल निरीक्षण लिए टीमें गठित की गई है। जिन का जिम्मा पूर्ण रूप से अवैध और घातक दवाइयों की बिक्री पर पूर्ण रूप से रोक लगा देना है।

प्रयाप्त संसाधनों ओर सुरक्षा की दृष्टि से नही कर पा रहे खुलकर कार्य

स्वास्थ्य विभाग की अगर माने तो विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों पर संसाधनों की पूर्ण रूप अभाव है जिसके चलते क्षेत्र में कार्यवाही करने में बहुत सी परेशानियो का सामना विभाग को करना पड़ रहा है। न तो औषधि निरीक्षक के पास कोई सरकारी वाहन है और न ही सुरक्षा दृष्टि को ध्यान में रखते हुए किसी प्रकार के स्थायी अंगरक्षक जिन कारणों से क्षेत्र में पूर्णरूप से कार्य करने में परेशानियो का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि समय समय पर हरिद्वार पुलिस प्रशासन द्वारा आवश्यकता पड़ने पर स्वास्थ्य विभाग को सुरक्षा प्रदान की जा रही है। जिस कारण ऐसे लोगो के खिलाफ कार्यवाही की जा रही है।जो अवैध तरीके से मेडिकल चला रहे है।
आपको बता दें कि आज भी सिडकुल नजदीक रावली महदूद क्षेत्र में ऐसे ही एक मेडिकल को औषधि निरीक्षक अनिता भारती द्वारा सिडकुल पुलिस की मदद से सीज कर दिया गया। जो बिना लाइसेंस के मेडिकल चला रहा था। यही नही मेडिकल की दवाओ को भी अपने कब्जे में कर आगे की कार्यवाही मेडिकल संचालक के खिलाफ की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *