नेपाल के रेडियो चैनल कालापानी लिपुलेख और लिंपियाधुरा पर काठमांडू के दावों को लेकर प्रचार प्रसार कर रहे हैं. नेपाल के सीमावर्ती इलाकों में रह रहे भारतीय नागरिकों ने इसकी जानकारी दी है. नेपाल की संसद ने हाल ही में एक नए नक्शे को स्वीकृति दी है जिसमें कि भारत के इन तीन इलाकों को उसने अपना बताया है. नेपाल के इस नक्शे को दोनों सदनों और राष्ट्रपति की भी स्वीकृति मिल चुकी है.भारत ने इस संबंध में कड़ा विरोध भी किया है. भारत की ओर से कहा गया है कि यह नक्शा कृत्रिम विस्तार साक्ष्य एवं ऐतिहासिक तथ्यों पर आधारित नहीं है और यह मान्य नहीं है.
पिथौरागढ़ धारचूला सब डिविजन के दांतू गांव में रहनी वाली शालू दतल ने कहा कि कुछ नेपाली चैनलों ने हाल ही में गानों के बीच में भारत विरोधी भाषण चलाना शुरू किया है. शालू ने कहा बॉर्डर के इलाकों में रहने वाले लोग नेपाली गाने सुनते हैं, उन्हें इन गानों के बीच में नेपाली नेताओं द्वारा दिए जा रहे भारत-विरोधी भाषण भी सुनाई देते हैं. शालू ने आगे कहा कि जो मुख्य एफएम चैनल गानों के बीच में भारत विरोधी सामग्री का प्रसारण कर रहे हैं वह नया नेपाल और कालापानी रेडियो हैं. उन्होंने कहा कि कुछ पुराने चैनल मल्लिकार्जुन रेडियो और एक अन्नपूर्णा.ऑनलाइन भी ऐसी रिपोर्ट प्रसारित कर रही हैं जिसमें बताया जा रहा है कि कालापानी नेपाल का क्षेत्र है….🖋️

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *